मुझे गलत मत समझना शायरी | Mujhe galat mat samajhna shayari - sayariadda.xyz

Thursday, October 14, 2021

मुझे गलत मत समझना शायरी | Mujhe galat mat samajhna shayari

 मुझे गलत मत समझना शायरी | Mujhe galat mat samajhna shayari


Hello doston Aaj ham log baat karne wale मुझे गलत मत समझना शायरी | Mujhe galat mat samajhna shayari ke bare mein. In shayari ko aap waha per use kar sakte ho Jahan per aap ko batana Ho ki aapki koi Galti Nahin Hai.


Ummid karta hun aap logon मुझे गलत मत समझना शायरी | Mujhe galat mat samajhna shayari Pasand Hogi. Pasand aayi ho to apne friend ke sath  share Jarur Karen. Dhanyvad doston


मुझे गलत मत समझना शायरी



मुझे गलत मत समझना
गलती करता यह दिल नहीं है,
बेवफा तेरा मासूम चेहरा
भूल जाने के काबिल नहीं है।

हमने भी छोड़ दिया, उसका इंतज़ार करना हमेशा के लिए,
जिसे हमारी निग़ाह की कदर ही न हो, उसे मुड़ मुड़ के क्या देखना।

मैं चुप रहा और गलतफहमियां बढती गयी,
उसने वो भी सुना जो मैंने कभी कहा ही नहीं।

चुपके से ले कर नाम तेरा गुज़ार देंगे ये ज़िंदगी ,
बता देंगे ज़माने को प्यार ऐसे भी होता है।

वो अल्फ़ाज़ ही क्या,जो समझाने पड़े
हमने मोहब्बत की है, कोई वकालत नही।


मुझे गलत मत समझना शायरी
मुझे गलत मत समझना शायरी

मुझे गलत मत समझना शायरी हिंदी

हर आदमी अब शक के घेरे में है,
इंसानियत का वजूद अब अँधेरे में है.

शक नही तेरे लिए बस प्यार भरा है,
तुझे खो न दूँ बस इसलिए ये दिल डरा है।


तुम्हारे होगें चाहने वाले बहुत इस कायनात में,
मगर इस पागल की तो कायनात ही तुम हो.

खामोश रहने पर भी उसे हो जाती थी फिक्र मेरी,
अब तो आंसू बहाने पर भी कोई जिक्र नहीं होता।

यूँ तो मोहब्बत की सारी हकीक़त से वाकिफ है हम,
पर उसे देखा तो सोचा चलो ज़िन्दगी बर्बाद कर ही लेते है।


मुझे गलत मत समझना शायरी
मुझे गलत मत समझना शायरी

Mujhe galat mat samajhna shayari

आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये ..
तन्हाई मैं तुझे हम पास बुला कर रोये
कई बार पुकारा इस दिल मैं तुम्हें
और हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोये

तन्हाई ना पाए कोई साथ के बाद,
जुदाई ना पाए कोई मुलाकात के बाद,
ना पड़े किसी को किसी की आदात इतनी,
कि हर सांस भी आए उसकी याद के बाद..

आसुओ को पलकों में लाया न कीजिये,
दिल की बात हर किसी को बताया न कीजिये,
मुट्ठी में नमक लेकर गुमते है लोग,
अपने ज़ख़्म हर किसी को दिखाया न कीजिये..

तुमको हम दिल में बसा लेंगे,तुम आओ तो सही
सारी दुनिया से छुपा लेंगे, तुम आओ तो सही

एक वादा करो अब हमसे ना बिछड़ोगे कभी
नाज़ हम सारे उठा लेंगे, तुम आओ तो सही


मुझे गलत मत समझना शायरी
मुझे गलत मत समझना शायरी

Mujhe galat mat samajhna shayari in Hindi

मेरे लवो को छु कर यूँ बहकाया ना करो,
मेरे सपनो में आकर इश्क महकाया ना करो।

तू बन जा मेरी इस कदर चाहूँगा तुझे की.
लोग दुआ करेगे की तुझसा नसीब हो हर किसी की।

जब भी हो थोड़ी फुरसत , मन की बात कह दीजिये,
बहुत ख़ामोश रिश्ते , ज़्यादा दिनों तक ज़िंदा नहीं रहते।

तुम्हें जब कभी मिले फ़ुरसतें मेरे दिल से बोझ उतार दो,
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो…!!

कौन मेरी चाहतोँ का फसाना समझेगा इस दौर मेँ,
यहाँ तो लोग अपनी जरुरत को मोहब्बत कहते हैँ।


मुझे गलत मत समझना शायरी
मुझे गलत मत समझना शायरी

मुझे गलत मत समझना शायरी हिंदी में

इन शोहरतों में आ कर हम और तनहा हो गए,
तेरी यादें आते आते जाने कहाँ चली जाती है।

टूट कर बिखर जाते है वो लोग मिटटी की दीवारों की तरह
जो खुद से भी जादा किसी और से मोहबत किया करते है..!

फिर कोई जख्म मिलेगा तैयार रह ऐ दिल,
कुछ लोग फिर पेश आ रहे हैँ बहुत प्यार से।

ख़ामोशी से मुसीबत और भी संगीन होती है,
तड़प ऐ दिल तड़पने से ज़रा तस्कीन होती है।

दुनिया लाख खूबसूरत हो मगर फिर भी,
तेरा ख़याल दिलकशीं है मेरे लिये।


मुझे गलत मत समझना शायरी
मुझे गलत मत समझना शायरी


You Can Also Read

↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡ ↡


Share with your friends

Add your opinion
Disqus comments
Notification
This is just an example, you can fill it later with your own note.
Done